About Me

My photo
Your average fun guy who will stand by you!

Friday, February 24, 2012

मेरे हिस्से की ज़मीन (शहरयार)

"मेरे हिस्से की ज़मीन बंजर थी, मैं वाकिफ न था । 
बेसबब इलज़ाम मैं बरसात को देता रहा ।।" (शहरयार)

अपने नक़्शे के मुताबिक (शहरयार)

"घर की तामीर तस्सवुर में ही हो सकती है।
अपने नक़्शे के मुताबिक ये ज़मीन कुछ कम है ।।" (शहरयार)  

Saturday, February 4, 2012

दिल से तेरी निगाह (असदुल्लाह खान / मिर्ज़ा ग़ालिब)

दिल से  तेरी  निगाह  जिगर  तक  उतर  गयी  - 2दोनों  को  इक  अदा  में  रजामंद  कर  गयी  - 2

वो  बादा -ए-शबाना  की  सरमस्तियाँ  कहाँ
उठिए  बस  अब  के  लज्ज़त -ए -काब -ए -सहर  गयी  - 2

देखो  तो  दिल -फरेबी -ए -अंदाज़ -ए -नक्श -ए -पा - 2
मौज -ए -किराम -ए -यार  भी  क्या  गुल  क़तर  गयी  - 2

नज्जारे  ने  भी  काम  किया  वां  नकाब  का  - 2
मस्ती  से  हर  निगाह  तेरे  रुख  पर  बिखर  गयी  - 2

मारा  ज़माने  ने
मारा  ज़माने  ने  असदुल्लाह  खान  तुम्हें - 2
वो  वलवले  वो
वो  वलवले  कहाँ  वो  जवानी  किधर  गयी  - 2

Thursday, February 2, 2012

दिल्ली पुलिस कॉन्सटेबल का सत्य वचन

एक दिल्ली पुलिस कॉन्सटेबल का सत्य वचन:

यो अन्ना हजारे
हमनै  हजारे तो क्या
आन्ने का भी
नहीं छोडैगा

(साभार: डॉ. राकेश गुप्ता) 

काफ़िला