About Me

My photo
Your average fun guy who will stand by you!

Thursday, June 20, 2013

"मैं आज भी फेंके हुए पैसे नहीं उठाता"

अमिताभ बच्चन बॉलीवुड के 'बिग बी' माने बिग बॉस कहे जाते हैं। टेलीविज़न पर सबसे सफल शो 'कौन बनेगा करोड़पति' एंकर करते हैं। घर बार भी दुरुस्त है। बेटी बड़े उद्योगपति के घर ब्याही है और बेटा और बहु सफल अभिनेता हैं। जनता पूजती है और धन सम्पदा की कोई कमी नहीं हैं।


आप सोचेंगे ऐसे 70-साला व्यक्ति को तो मोहमाया त्याग कर नाती-पोतों के स्नेह, पर सेवा और प्रभु भक्ति में लीन हो कर आनंदित रहना चाहिए। मैं भी यही सोचता हूँ, लेकिन कुछ समय से ये देख कर परेशान हूँ की ये व्यक्ति इतना सब कुछ होते हुए भी पैसे के पीछे क्यूँ भागता है? भागते सभी हैं, SRK भी, काजोल भी, सलमान भी, धोनी भी और सचिन भी। लेकिन अमिताभ अलग शख्शियत हैं-खानदानी, पढ़े लिखे, सुसंस्कृत- बॉलीवुड के छिछलेपन से दूर। अगर ऐसा व्यक्ति भी अगर लोगों को बालों का तेल, हाजमे की गोली, पेन और बिस्किट बेचने पर मजबूर हो जाता है तो आखिर क्यों? 



बात पैसे की नहीं हो सकती क्यूंकि 37 करोड़ का तो इस साल इनकम टैक्स भरेंगे, कमाई कम से कम तिगुनी होगी। बात सम्मान की नहीं हो सकती। लोग इतने कायल हैं की उनकी एक झलक देखते ही बेहोश हो जाते है। बात एक अभिनेता के लिए लगातार कुछ क्रिएटिव करने की या लाइमलाइट में रहने की हो सकती है, लेकिन ठंडा-ठंडा-कूल-कूल तेल बेचने में भला क्या सृजनात्मक है? तो फिर क्या ऐसी खुरक है की अपने यश को भुना कर सुबह शाम लोगों को ऐसे प्रोडक्ट खरीदने के लिए उत्साहित करें जो वे खुद शायद ही इस्तेमाल करते हों?


आप को लगता है अमिताभ बालों में नवरत्न तेल लगते होंगे? लगा कर देखें, जया जी उनसे बोलना बंद कर देंगी और अभिषेक और ऐश्वर्या घर छोड़ कर जाने की धमकी दे देंगे बिकॉज़ "देट'स सो ग्रॉस पापा!"

आप को लगता है की जीतेजी अमिताभ और अभिषेक कभी मारुती वर्सा में बैठेंगे? एक फोटो छपने की देर है और सारा बॉलीवुड (और अब होलीवुड भी) धज्जियाँ उड़ा देगा इज्ज़त की।

आप को लगता है बच्चन परिवार पार्ले की गोल्ड कूकीज खाता होगा? खाने-पीने में उनके कुत्ते भी इससे बेहतर Pedigree वाले होंगे।

यहाँ स्कूल टीचर और अभिभावक बच्चों को मैगी नूडल से बचाने में लगे हैं, वहीँ अमिताभ जी बच्चों को उकसाने में लगे हैं। खिला कर देखें आराध्या को मैगी, ऐश्वर्या से न पंगा पड़ जाये तो!  

कुल मिलकर सब धोखाधड़ी है।

तो क्यों, आखिर क्यों, एक ऐसा खुदगर्ज़ इंसान, जो कभी फेंके हुए पैसे भी नहीं उठाता, मजबूर है अपना ज़मीर बेचने को?

आपके विचार आमंत्रित हैं।



No comments:

Post a Comment